हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

शनिवार, 19 फ़रवरी 2011

तुम तुम और तुम... (गीत)--- ( डा श्याम गुप्त )

सकल रूप रस भाव अवस्थित , तुम ही तुम हो सकल विश्व में |
सकल
विश्व तुम में स्थित प्रिय,अखिल विश्व में तुम ही तुम हो |
तुम
तुम तुम तुम , तुम ही तुम हो,तुम ही तुम, प्रिय! तुम ही तुम हो ||


तेरी वींणा के ही नाद से, जीवन नाद उदित होता है |
तेरी स्वर लहरी से ही प्रिय,जीवन नाद मुदित होता है |


ज्ञान चेतना मान तुम्ही हो ,जग कारक विज्ञान तुम्ही हो |
तुम जीवन की ज्ञान लहर हो,भाव कर्म शुचि लहर तुम्ही हो |


अंतस मानस या अंतर्मन ,अंतर्हृदय तुम्हारी वाणी |
अंतर्द्वंद्व -द्वंद्व हो तुम ही , जीव जगत सम्बन्ध तुम्ही हो |


तेरा प्रीति निनाद होता , जग का कुछ संबाद होता |
जग के कण कण, भाव भाव में,केवल तुम हो,तुम ही तुम हो |


जग कारक जग धारक तुम हो,तुम तु तुम तुम, तुम ही तुम हो |
तुम तुम तुम तुम, तुम ही तुम हो,तुम ही तुम हो,तुम ही तुम हो |

तुम्ही शक्ति, क्रिया, कर्ता हो, तुम्ही ब्रह्म इच्छा माया हो |
इस विराट को रचने वाली, उस विरा की कृति काया हो |


दया कृपा अनुरक्ति तुम्ही हो, ममता माया भक्ति तुम्ही हो |
अखिल भुवन में तेरी माया,तुझ मे सब ब्रह्माण्ड समाया |


गीत हो या सुर संगम हे प्रिय!, काव्य कर्म हो या कृति प्रणयन |
सकल विश्व के गुण भावों में, तु ही तुम हो,तुम ही तुम हो |


तेरी प्रीति-द्रष्टि का हे प्रिय, श्याम के तन मन पर साया हो |
मन के कण कण अन्तर्मन में, तेरी प्रेम -मयी छाया हो


श्रिष्टि हो स्थिति या लय हो प्रिय!, सब कारण का कारण, तुम हो
तुम ही तुम हो,तुम ही तुम हो,तुम तुम तुम प्रिय, तुम ही तुम हो

9 comments:

शालिनी कौशिक ने कहा…

hindi sahitya me ek aur anoothi kavita.badhai..

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद शालिनीजी...

मनोज कुमार ने कहा…

सुंदर! अद्भुत!!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-तुम-!
बहुत बढ़िया!

वीना ने कहा…

बहुत अच्छी रचना...पहली बार आई हूं और इतनी अच्छी रचना पढ़ने को मिली...आगे भी आती रहूं इसलिए ब्लॉग फॉलो कर लिया है। आप भी जरुर आइए...

Dr.J.P.Tiwari ने कहा…

भाई वाह!
आपने तो सर्वेश्वरवाद का स्मरण करा दिया. वास्तव में यह प्रेम और समर्पण की युग्म दृष्टि है जहां प्रेमी हो या भक्त, उसे द्वंद्व और द्वैत सहन नहीं. सभी में प्रियतम की ही छटा दिखायी देती है. उसमे शुभ और अशुभ के लिए भी स्थान नहीं. समस्त द्वंदों को तिरोहित और समाहित कर लेती है यह दिव्य दृष्टि. .गुरु गोविन्द सिंग जी जब परमात्मा का गुणानुवाद करते - करते थक जाते है तब कह उठते हैं -..सब कुछ तू है...तू .तू ..तू .तू ..तू .तू तू ..तू तू .तू .तू तू .तू .तू .तू .तू ...........(२८ बार). यह सर्वर्श्वर्वाद दार्शनिक क्षेत्र में विषद चर्चा का गूढ़ विषय रहा है. बहुत -बहुत बधाई ..

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद मनोज जी..स्त्री और मां--दोनों ही रूप अद्भुत ही होते हैं फ़िर उनका वर्णन.....

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद शास्त्री जी
धन्यवाद वीनाजी, सुन्दर हैं आपके सुर ...LBA va AIBA पर शूर्पणखा काव्य उपन्यास व श्रिष्टि-महाकाव्य पर भी गौर करें....

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद डा तिवारी जी, -- जो आप आये व आपने भाव को पहचाना..

जब मैं था तब हरि नहीं, अब है हैं मैं नाहिं...

---.यह रचना प्रेयसी व मां दोनों के लिये ही समर्थ है...क्योंकि मां( लौकिक व देवी रूप दोनों) व प्रेयसी का ही पूर्ण समर्पण पुरुष के लिये होता है...पुत्र व प्रेमी के रूप में...पुरुष भी इन्हीं दोनों को ही पूर्ण समर्पित होता है....