हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

मंगलवार, 24 नवंबर 2009

खामोश रात में तुम्हारी यादें

खामोश रात में तुम्हारी यादें,
हल्की सी आहट के
साथ दस्तक देती हैं,



बंद आखों से देखता हूँ तुमको,
इंतजार करते-करते
परेशां नहीं होता अब,



आदत हो गयी है तुमको देर से आने की,
कितनी बार तो शिकायत की थी तुम से ही,
पर
क्या तुमने किसी बात पर गौर किया ,
नहीं न ,



आखिर मैं क्यों तुमसे इतनी ,
उम्मीद करता हूँ ,
क्यों मैं विश्वास करता हूँ,
तुम पर,



जान पाता कुछ भी नहीं ,
पर तुमसे ही सारी उम्मीदें जुड़ी हैं,
तन्हाई में,
उदासी में ,
जीवन के हस पल में,



खामोश दस्तक के
साथ आती हैं तुम्हारी यादें,
महसूस करता हूँ तुम्हारी खुशबू को,
तुम्हारे एहसास को,



तुम्हारे दिल की धड़कन का बढ़ना,
और तुम्हारे चेहरे की शर्मीली लालिमा को,
महसूसस करता हूँ-




तुम्हारा स्पर्श,
तुम्हारी गर्म सांसे,
उस पर तुम्हारी खामोश और
आगोश में करने वाली मध्धम बयार को।
खामोश रात में बंद पलकों से,
इंतजार करता हूँ तुम्हारी इन यादों को..........

15 comments:

दिगम्बर नासवा ने कहा…

खामोश रात में बंद पलकों से,
इंतजार करता हूँ तुम्हारी इन यादों को..........

उफ़ ये यादें . कितना तरसाती हैं ..... मन को लुभाती भी हैं .......... बहुत अच्छी अभिव्यक्ति है ........

Kusum Thakur ने कहा…

बहुत अच्छी भावाभिव्यक्ति , बधाई !!

sada ने कहा…

बंद आखों से देखता हूँ तुमको,
इंतजार करते-करते ।

बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

Rajey Sha ने कहा…

ऐसी रोमेंटि‍क यादें तो गढ़ी भी जा सकती हैं, नहीं ?

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

बहुत प्यार भरी रचना है..

Devendra ने कहा…

बहूत खूब....

मनोज कुमार ने कहा…

वेदना, करुणा और दुःखानुभूति का अच्छा चित्रण।

Nirmla Kapila ने कहा…

बेटा जी इस पर तो कह चुकी हूँ जो कहना है। सुन्दर। अरे तुम्हारे पास समय कब होता है याद करने को सारा दिन तो लिखते रहते हो क्यों झूठ बोल रहे हो उससे? आशीर्वाद्

जी.के. अवधिया ने कहा…

"आखिर मैं क्यों तुमसे इतनी ,
उम्मीद करता हूँ ,
क्यों मैं विश्वास करता हूँ,
तुम पर,"

अपने ज़ज़्बात में नगमात रचाने के लिये
मैंने धड़कन की तरह दिल में बसाया है तुझे
मैं तसव्वुर भी ज़ुदाई का भला कैसे करूँ
मैंने किस्मत की लकीरों से चुराया है तुझे

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है इस रचना में शुक्रिया

shikha varshney ने कहा…

behad sunder abhivyakti hai or pyaare ahsas.

श्रीश पाठक 'प्रखर' ने कहा…

एक-एक पल प्यार के उतरना....काफी बड़ी चनौती ले ली साहब आपने...!!!
बधाई हो..!

शरद कोकास ने कहा…

कभी कभी यह सब पढ़ना भी अच्छा लगता है ।

chenyingying9539 9539 ने कहा…

2015-7-28chenyingying9539
michael kors handbags
toms shoes
toms shoes outlet
louis vuitton
ray ban outlet
michael kors outlet
michael kors outlet
tory burch handbags
coach outlet
oakley sunglasses
chanel bags
michael kors bags
louis vuitton handbags
kids lebron james shoes
marc jacobs
jordan 13 retro
ralph lauren uk
fake oakleys
ray ban sunglasses
kevin durant shoes 2015
cheap ray ban sunglasses
tods sale
michael kors
polo shirts
louis vuitton
hollister
tory burch handbags
michael kors
insanity dvd sale
christian louboutin sale

chenyingying9539 9539 ने कहा…

2015-7-28chenyingying9539
michael kors handbags
toms shoes
toms shoes outlet
louis vuitton
ray ban outlet
michael kors outlet
michael kors outlet
tory burch handbags
coach outlet
oakley sunglasses
chanel bags
michael kors bags
louis vuitton handbags
kids lebron james shoes
marc jacobs
jordan 13 retro
ralph lauren uk
fake oakleys
ray ban sunglasses
kevin durant shoes 2015
cheap ray ban sunglasses
tods sale
michael kors
polo shirts
louis vuitton
hollister
tory burch handbags
michael kors
insanity dvd sale
christian louboutin sale