हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

रविवार, 16 मई 2010

टुकड़े टुकड़े ख्वाब ....(कविता)............संगीता स्वरुप

गर्भ -गृह से 

आँखों की खिड़की खोल 

पलकों की ओट से 

मेरे ख़्वाबों ने 

धीरे से बाहर झाँका 

कोहरे की गहन चादर से 

सब कुछ ढका हुआ था .



धीरे धीरे 

हकीक़त के ताप ने 

कम कर दी 

गहनता कोहरे की 

और 

ख़्वाबों ने डर के मारे 

बंद कर लीं अपनी आँखे .


क्यों कि -

उन्हें दिखाई दे गयीं थी 

एक नवजात कन्या शिशु 

जो कचरे के डिब्बे में 

निर्वस्त्र सर्दी से ठिठुर 

दम तोड़ चुकी थी .

*********************************

16 comments:

हिन्दी साहित्य मंच ने कहा…

बहुत ही मार्मिक रचना ....सच दिखाती हुई ...आभार

neeshoo ने कहा…

vastvikta ke karib rahi aapki kavita ...samaj ke drishya ko dikha rahi hai ..badhai

जय हिन्दू जय भारत ने कहा…

bahut hi shandaar rachna sangeeta ji ....jitni bhi tariph karun kam hoga ..hardik aabhar

faij ने कहा…

kavita padh kar samaj ki dhasha ka chitra aankho ke samne ghum gya ...bahut hi sundar kavita ...dhanyavaad

फ़िरदौस ख़ान ने कहा…

अति सुन्दर...

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

samaaj ki kuritiyo par atthas karti asardar shabdo se sushobhit aapki is rachna ke chayan par badhayi.

वन्दना ने कहा…

uff! behad marmik...........jyada kahne ki sthiti mein nahi hun.

रश्मि प्रभा... ने कहा…

धीरे धीरे

हकीक़त के ताप ने

कम कर दी

गहनता कोहरे की

और

ख़्वाबों ने डर के मारे

बंद कर लीं अपनी आँखे .

aksar ye raaste khwaabon ko bhaybhit kar jaate hain, per usike baad khwaab hakikat bante hain

स्वप्निल कुमार 'आतिश' ने कहा…

bahut bahut bahut zabardast rachna mumma...is subkect par aisi rachna pahli baar padhi hai ..hats offffffffff

M VERMA ने कहा…

अत्यंत मार्मिक रचना

shikha varshney ने कहा…

बहुत ही मार्मिक रचना

सुमन'मीत' ने कहा…

आज का सत्य यही है
बहुत मार्मिक .......

Kumar Jaljala ने कहा…

महिलाओं में श्रेष्ठ ब्लागर कौन- जीतिए 21 हजार के इनाम
पोस्ट लिखने वाले को भी मिलेगी 11 हजार की नगद राशि
आप सबने श्रेष्ठ महिला ब्लागर कौन है, जैसे विषय को लेकर गंभीरता दिखाई है. उसका शुक्रिया. आप सबको जलजला की तरफ से एक फिर आदाब. नमस्कार.
मैं अपने बारे में बता दूं कि मैं कुमार जलजला के नाम से लिखता-पढ़ता हूं. खुदा की इनायत है कि शायरी का शौक है. यह प्रतियोगिता इसलिए नहीं रखी जा रही है कि किसी की अवमानना हो. इसका मुख्य लक्ष्य ही यही है कि किसी भी श्रेष्ठ ब्लागर का चयन उसकी रचना के आधार पर ही हो. पुऱूषों की कैटेगिरी में यह चयन हो चुका है. आप सबने मिलकर समीरलाल समीर को श्रेष्ठ पुरूष ब्लागर घोषित कर दिया है. अब महिला ब्लागरों की बारी है. यदि आपको यह प्रतियोगिता ठीक नहीं लगती है तो किसी भी क्षण इसे बंद किया जा सकता है. और यदि आपमें से कुछ लोग इसमें रूचि दिखाते हैं तो यह प्रतियोगिता प्रारंभ रहेगी.
सुश्री शैल मंजूषा अदा जी ने इस प्रतियोगिता को लेकर एक पोस्ट लगाई है. उन्होंने कुछ नाम भी सुझाए हैं। वयोवृद्ध अवस्था की वजह से उन्होंने अपने आपको प्रतियोगिता से दूर रखना भी चाहा है. उनके आग्रह को मानते हुए सभी नाम शामिल कर लिए हैं। जो नाम शामिल किए गए हैं उनकी सूची नीचे दी गई है.
आपको सिर्फ इतना करना है कि अपने-अपने ब्लाग पर निम्नलिखित महिला ब्लागरों किसी एक पोस्ट पर लगभग ढाई सौ शब्दों में अपने विचार प्रकट करने हैं। रचना के गुण क्या है। रचना क्यों अच्छी लगी और उसकी शैली-कसावट कैसी है जैसा उल्लेख करें तो सोने में सुहागा.
नियम व शर्ते-
1 प्रतियोगिता में किसी भी महिला ब्लागर की कविता-कहानी, लेख, गीत, गजल पर संक्षिप्त विचार प्रकट किए जा सकते हैं
2- कोई भी विचार किसी की अवमानना के नजरिए से लिखा जाएगा तो उसे प्रतियोगिता में शामिल नहीं किया जाएगा
3- प्रतियोगिता में पुरूष एवं महिला ब्लागर सामान रूप से हिस्सा ले सकते हैं
4-किस महिला ब्लागर ने श्रेष्ठ लेखन किया है इसका आंकलन करने के लिए ब्लागरों की एक कमेटी का गठन किया जा चुका है. नियमों व शर्तों के कारण नाम फिलहाल गोपनीय रखा गया है.
5-जिस ब्लागर पर अच्छी पोस्ट लिखी जाएगी, पोस्ट लिखने वाले को 11 हजार रूपए का नगद इनाम दिया जाएगा
6-निर्णायकों की राय व पोस्ट लेखकों की राय को महत्व देने के बाद श्रेष्ठ महिला ब्लागर को 21 हजार का नगद इनाम व शाल श्रीफल दिया जाएगा.
7-निर्णायकों का निर्णय अंतिम होगा.
8-किसी भी विवाद की दशा में न्याय क्षेत्र कानपुर होगा.
9- सर्वश्रेष्ठ महिला ब्लागर एवं पोस्ट लेखक को आयोजित समारोह में भाग लेने के लिए आने-जाने का मार्ग व्यय भी दिया जाएगा.
10-पोस्ट लेखकों को अपनी पोस्ट के ऊपर- मेरी नजर में सर्वश्रेष्ठ ब्लागर अनिवार्य रूप से लिखना होगा
ब्लागरों की सुविधा के लिए जिन महिला ब्लागरों का नाम शामिल किया गया है उनके नाम इस प्रकार है-
1-फिरदौस 2- रचना 3-वंदना 4-संगीता पुरी 5-अल्पना वर्मा- 6 –सुजाता चोखेर 7- पूर्णिमा बर्मन 8-कविता वाचक्वनी 9-रशिम प्रभा 10- घुघूती बासूती 11-कंचनबाला 12-शेफाली पांडेय 13- रंजना भाटिया 14 श्रद्धा जैन 15- रंजना 16- लावण्यम 17- पारूल 18- निर्मला कपिला 19 शोभना चौरे 20- सीमा गुप्ता 21-वाणी गीत 21- संगीता स्वरूप 22-शिखाजी 23 –रशिम रविजा 24- पारूल पुखराज 25- अर्चना 26- डिम्पल मल्होत्रा, 27-अजीत गुप्ता 28-श्रीमती कुमार.
तो फिर देर किस बात की. प्रतियोगिता में हिस्सेदारी दर्ज कीजिए और बता दीजिए नारी किसी से कम नहीं है। प्रतियोगिता में भाग लेने की अंतिम तारीख 30 मई तय की गई है.
और हां निर्णायकों की घोषणा आयोजन के एक दिन पहले कर दी जाएगी.
इसी दिन कुमार जलजला का नया ब्लाग भी प्रकट होगा. भाले की नोंक पर.
आप सबको शुभकामनाएं.
आशा है आप सब विषय को सकारात्मक रूप देते हुए अपनी ऊर्जा सही दिशा में लगाएंगे.
सबका हमदर्द
कुमार जलजला

वाणी गीत ने कहा…

और मैंने उसी क्षण प्रण लिया .. अपने आस पास ऐसे किसी ख्वाब को दम नहीं तोड़ने दूंगी ...!!

Sadhana Vaid ने कहा…

बहुत ही ह्रदय विदारक रचना ! ऐसी घटनाएँ ख्वाबों को ही नहीं हम सबको भी भयभीत कर जाती हैं ! सार्थक एवं प्रेरक पोस्ट के लिए आभार !

sangeeta swarup ने कहा…

सभी सुधि जन का आभार