हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

मंगलवार, 1 दिसंबर 2009

हिन्दी साहित्य मंच की कविता प्रतियोगिता का परिणाम घोषित - विजेताओं को बधाई

हिन्दी साहित्य मंच द्वारा आयोजित तृतीय कविता प्रतियोगिता का परिणाम घोषित कर दिया गया है । हिन्दी साहित्य मंच द्वारा विजेता को एक प्रशस्ति पत्र और साहित्य से जुड़ी हुई पुस्तकें पुरस्कार स्वरूप प्रदान की जाती है । इस बार हमें अधिक संख्या में कविताएं प्राप्त हुई । जिससे हमारा प्रयास सफल हो पाया । इसी तरह की भागीदारी की उम्मीद भी करता है यह मंच । आप भी अपना सहयोग कर हिन्दी साहित्य को आगे बढ़ाने में अपना योगदान दे सकते हैं । हिन्दी साहित्य मंच की तृतीय

कविता प्रतियोगिता के विजेता ---------

प्रथम स्थान - गरिमा ( रचना - " प्रतिक्षा- शिविर " के लिए )

द्वितीय स्थान - प्रताप सिहं ( रचना - " रौद्र-रौद्र " के लिए )

तृतीय स्थान - डा० श्याम गुप्ता ( रचना - " कितने इन्द्रधनुष थे " के लिए )


सांत्वना पुरस्कार ------


प्रथम स्थान - रश्मि प्रभा
( रचना - " आओ पिछे लौट चले " के लिए )

द्वतीय स्थान - कीर्ति कुमार सिँह ( रचना - " मिलना " के लिए )

तृतीय स्थान - सरस्वती प्रसाद
( रचना - " मैं चाहूंगी तुमसे कभी मिलूं " ले लिए )


हिन्दी साहित्य मंच की ओर से सभी विजेताओं को बहुत बहुत बधाई । और जिन्होनें ने अपनी रचना इस प्रतियोगिता हेतु भेजी हम उनके आभारी हैं । अगली प्रतियोगिता में दुबारा से हमें आपकी रचनाओं का इतंजार रहेगा । किसी भी तरह की जानकारी के लिए आप हमें इस अंतरजाल पते (hindisahityamanch@gmail.com ) पर या इस नम्बंर पर 09891584813 संपर्क कर सकते है ।

आभार हिन्दी
साहित्य
मंच
(संचालक)

9 comments:

मनोज कुमार ने कहा…

सभी विजेताओं को बधाई।

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

मेरी तरफ से भी बधाई ! मिथिलेश जी एक बार सोचा तो इस बारे में मैंने भी था किन्तु.... !!

Dr. shyam gupta ने कहा…

सभी विजेताओं को बहुत-बहुत बधाई ।

Udan Tashtari ने कहा…

सभी विजेताओं को बहुत बहुत बधाई

महाशक्ति ने कहा…

प्रतिभागियों तथा विजेताओ को सभी को बहुत बहुत बधाई

प्रताप नारायण सिंह ने कहा…

सर्वप्रथम तो प्रतिभागियों और विजेताओं को बहुत बहुत बधाई और उन सब लोगों को धन्यवाद जिन्होंने बधाइयां दी है.

संचालक महोदय से यह अवश्य कहना चाहूँगा कि कविता भेजने का मुख्य उद्देश्य यह था कि कविता मंच पर आए और पाठक गण उसका आनंद ले सकें. कविता को पुरस्कृत तो कर दिया गया किन्तु उसे प्रकाशित नहीं किया गया. अनुरोध करना चाहूंगा कि जितनी भी पुरस्कृत कविताएँ हैं यदि संभव हो सके तो उन्हें प्रकाशित करने का कष्ट किया जाय.

UNBEATABLE ने कहा…

sabhi vijeytaao ko Haardik Badhaayee .... Agrah hai sabhi ki Kavitaaye prakashit ho jis'se unhe Padh kar aanand uthaayaa ja sake ...

हिन्दी साहित्य मंच ने कहा…

हिन्दी साहित्य मंच कविता प्रतियोगिता में विजयी कविता का प्रकाशन पहले की भाँती होगी । एक बार में ऐसा सम्भव नहीं है इसलिए कविता का प्रकाशन क्रमवार होगा ।

बेनामी ने कहा…

kripya puraskrit kavitaon ko blog par post karen