हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

शनिवार, 15 मई 2010

कविता-----कविताई का सत्य.......डा श्याम गुप्त

जिनकी कविता में नहीं,कोई कथ्य व तथ्य |
ऐसी कविता में कहाँ , श्याम ढूंढिए सत्य ||

तुकबंदी करते रहें , बिना भाव ,उद्देश्य |
देश धर्म औ सत्य का,नहीं कोई परिप्रेक्ष्य ॥

काव्य कला सौन्दर्य रस, रटते रहें ललाम।
जन मन के रस भाव का ,नहीं कोई आयाम॥

गूढ शब्द पर्याय बहु, अलन्कार भरमार ।
ज्यों गदही पर झूल हो, रत्न जटित गलहार ॥

कविता वह है जो रहे, सुन्दर सरल सुबोध ।
जन मानस को कर सके, हर्षित प्रखर प्रबोध ।

अलन्कार रस छंन्द सब, उत्तम गहने जान ।
काया सच सुन्दर नहीं, कौन करेगा मान ॥

नारि दर्शना भव्य मन, शुभ्र सुलभ परिधान ।
भाल एक बिन्दी सहज़, सब गहनों की खान ॥

स्वर्ण अलन्क्रित तन जडे, माणिकऔ पुखराज ।  
भाव कर्म से हीन हो, नारि न सुन्दर साज ।।

भाव प्रवल, भाषा सरल, विषय प्रखर श्रुति तथ्य ।
जन जन के मन बस सके , कविताई का सत्य ॥

2 comments:

sangeeta swarup ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति....

वाणी गीत ने कहा…

यही है कविताई का सत्य ...कभी हम भी साकार कर सके ....!!