हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

गुरुवार, 16 जुलाई 2009

ताजमहल

ताजमहल के नीचे तहखाने में
कुलबुलाने लगती हैं दो आत्मायें
चिपट जाती हैं वे एक दूसरे से
कहीं कोई अलग न कर दे उन्हें
दबे पाँव बाहर आती हैं
अपनी ही रची सुंदरता को निहारने
पर ये क्या ?
बाहर देखा तो यमुना जी सिमटती नजर आयीं
दूर-दूर तक गड़गड़ करती मशीनें
कोलाहल और धुँओं के बीच
काले पड़ते सफेद संगमरमर
कैमरों के फ्लैश के बीच
उनकी बनायी सुंदरता पर दावे करते लोग
अचानक उन्हें ताज दरकता नजर आया
वे तेजी से भागकर
अपनी-अपनी कब्रों में सिमट गए !!
कृष्ण कुमार यादव

9 comments:

डाकिया बाबू ने कहा…

Sundar hai.

Rashmi Singh ने कहा…

आज के दौर में यथार्थ को प्रतिबिंबित करती एक अनुपम कविता.

बाजीगर ने कहा…

बहुत ही सुंदर रचना बेहतरीन प्रस्तुति आभार !

बाजीगर ने कहा…

बहुत ही सुंदर रचना बेहतरीन प्रस्तुति आभार !

आकांक्षा~Akanksha ने कहा…

बाहर देखा तो यमुना जी सिमटती नजर आयीं
दूर-दूर तक गड़गड़ करती मशीनें
कोलाहल और धुँओं के बीच
काले पड़ते सफेद संगमरमर
....Yahin to ham prakriti ka nuksan kar rahe hain.

युवा ने कहा…

अजी दिल खुश कर दिया इस कविता ने. दिल की बात जुबान पर आ गई.

Dr. Brajesh Swaroop ने कहा…

अचानक उन्हें ताज दरकता नजर आया
वे तेजी से भागकर
अपनी-अपनी कब्रों में सिमट गए !!
..KK Ji ki kavitaon ka kathya aur shilp dekhte banta hai..badhai.

'अदा' ने कहा…

अचानक उन्हें ताज दरकता नजर आया
वे तेजी से भागकर
अपनी-अपनी कब्रों में सिमट गए !!

waah waah..
bahut khoob..
atisundar..

Dr. shyam gupta ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति.