हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

बुधवार, 22 जून 2011

मुस्कानों में जहर को देखा.............श्यामल सुमन



घर के ऊपर घर को देखा
और भागते शहर को देखा

किसे होश है एक दूजे की
मजलूमों पे कहर को देखा

तोता भी है मैना भी है
मगर प्यार में कसर को देखा

हाथ मिलाते लोगों के भी
मुस्कानों में जहर को देखा

चकाचौंध है अंधियारे में
थकी थकी सी सहर को देखा

एक से एक भक्त लक्ष्मी के
कोमलता पे असर को देखा

पानी को अब खेत तरसते
शहर बीच में नहर को देखा

बढ़ता जंगल कंकरीट का
जहाँ सिसकते शजर को देखा

यहाँ काफिया यह रदीफ है
सुमन तो केवल बहर को देखा

8 comments:

वन्दना ने कहा…

हाथ मिलाते लोगों के भी
मुस्कानों में जहर को देखा

यही ज़ि्न्दगी की कडवी सच्चाई है…………बहुत सुन्दर और गहन अभिव्यक्ति।

Dr.J.P.Tiwari ने कहा…

हाथ मिलाते लोगों के भी
मुस्कानों में जहर को देखा

Akdam sateek. Sachchaai ka bayaa karti ek baut hi achchhi post jo vyangy ka swaad bhi deti hai. Thanks

neena mandilwar ने कहा…

muskan etani bikher do ki jivan ka har jahar ghutne tek de.

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत सुन्दर और गहन अभिव्यक्ति।

Swarajya karun ने कहा…

@पानी को अब खेत तरसते
शहर बीच में नहर को देखा !
दिल को छू लेने वाली छोटी बहर की सुंदर ग़ज़ल.
बधाई और शुभकामनाएं .

श्यामल सुमन ने कहा…

आप सबके प्रति विनम्र आभार - नियमित संपर्क-कामना के साथ

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
http://meraayeena.blogspot.com/
http://maithilbhooshan.blogspot.com/

veerubhai ने कहा…

Socailly relevent satire in gazal genre .Sorry I do not have hindi font .Every coplet (Ashaar )is beautiful and loaded with satire and paradoxes .

prerna argal ने कहा…

हाथ मिलाते लोगों के भी
मुस्कानों में जहर को देखा

चकाचौंध है अंधियारे में
थकी थकी सी सहर को देखाaajkal ke mahole ke baare main likhi saarthak post,jamane ki hakikat bayaan kar di aapne.badhaai.