हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

गुरुवार, 10 फ़रवरी 2011

अंतिम विदाई-----(कविता) -- मीना मौर्या

धरा पर अवतिरत हुआ
लिपटा मोह माया में भाई
आज खुशी मना लो
कल होगी अंतिम विदाई ।

खुशियों का बसेरा छोटा
जीवन पहाड़ व रवाई
सुख-समृद्धि धन दौलत
खोयेगा बचेगा एक पाई ।

मानव मन परिवर्तन शील
स्थिर टिक नहीं पाई
वर्तमान तेरा अच्छा है
मत सोच भविष्य होगा भाई ।

अकेला चिराग देगा रोशनी
संसार अंधेरा कुआ राही
चिकने डगर पर गड्ढे हैं
शूल अनगिनत न देत दिखाई ।

टुक-टुक मत देख तस्वीर
सामने बुढापा जीवन बनी दवाई
शुरुआत तो अच्छी थी
अन्त बड़ा ही दुःखदाई।।

इन्द्र धनुष रंग जीवन
सब रंग न देत दिखाई
सजीला तन बना लचीला
सास लेना दुःखदाई ।

वास्तविकता विपरित इसके है
मानव मन आये चतुराई
स्वयं संसार में नाम कर
इतिहास बना ले अंतिम विदाई । ।

11 comments:

neeshoo ने कहा…

wah..ji ...wakai aantim vidaai muskil hai...

संतोष कुमार "प्यासा" ने कहा…

sundar rachna...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सशक्त रचना।

surendra ने कहा…

bahut hee achha

uday ने कहा…

jeevan kee yenhi sachai.
bahut sunder rachana

शिखा कौशिक ने कहा…

hindi kavita ki ek bahut sashakt prastuti....

Mithilesh dubey ने कहा…

गजब का मनोभाव समेटे लाजवाब रचना लगी, बधाई आपको ।

Bhanwarlal ने कहा…

hindi apni matr bhasha hai
iska saman krna hr hinustani ke lie gorv ki bat hai

kayat ने कहा…

Bhoutikta se adhyatam ki udaan pe le jaane wali abhivyakti ! or vo bhi bhoutikta ke daur me. good work keep it up.

Reeta ने कहा…

achhi parstuti,hardya ko chhu ne wali kavita hain.

Gege Dai ने कहा…


15.07.17fangyanting
prada outlet
coach factory outlet
christian louboutin shoes
michael kors uk
tory burch shoes
ray bans
christian louboutin
cheap jordans free shipping
coach outlet
louboutin
kate spade handbags
coach outlet
louboutin femme
coach factory outlet
true religion
mcm bags
cheap ray ban sunglasses
michael kors bags
ray ban sunglasses
abercrombie & fitch
michael kors
gucci borse
snapbacks hats
ray bans
coach outlet store online