हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

गुरुवार, 13 जनवरी 2011

इक जाम फुर्सत में .... {गजल} सन्तोष कुमार "प्यासा"

.

तू परछाई है मेरी, तो कभी मुझे भी दिखाई दिया कर
ऐ जिंदगी ! कभी तो इक जाम फुर्सत में मेरे संग पिया कर

मै भी इन्सान हूँ, मेरे भी दिल में बसता है खुदा
मेरी नहीं तो न सही, कम से कम उसकी तो क़द्र किया कर

इनायत समझ कर तुझको अबतलक जीता रहा हूँ मै
मिटा कर क़ज़ा के फासले, मै तुझमे जियूं तू मुझमे जिया कर

मेरा क्या है ? मै तो दीवाना हूँ इश्क-ऐ-वतन में फनाह हो जाऊंगा
वतन पे मिटने वालों की न जोर आजमाइश लिया कर...........

7 comments:

Pratik Maheshwari ने कहा…

वाह संतोष कुमारजी.. क्या खूब लिखा है आपने..
बहुत ही ज़बरदस्त प्रस्तुति...

आभार

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

काश जिन्दगी को तनिक फुर्सत भी होती।

Kailash C Sharma ने कहा…

बहुत सुन्दर..हरेक शेर लाज़वाब..कहाँ फुर्सत है जिंदगी को सुकून से एक जाम पीने की...

prem ने कहा…

lazavab prastuti.....

Neeraj http://knkayastha.blogspot.com ने कहा…

बहुत ही अच्छी लगी आपकी रचना और आपके ख्याल...

Mithilesh dubey ने कहा…

लाजवाब रचना संतोष जी ।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

बढ़िया गजल!
लोहड़ी और उत्तरायणी की सभी को शुभकामनाएँ!