हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

मंगलवार, 21 सितंबर 2010

बचपन

चूल्हे ‍की आग से निकलते धुएँ से

माँ की आँखों से आँसू बहता हुआ
गाल से गले तक फिसलता चला जाता है
मैं बार बार
चिल्लाता हूँ
माँ खाना कहाँ हैं ...
माँ आँचल से मुंह पोंछते हुए
दुलार से कहती है
ला रही हूँ बेटा
खाने में कुछ पल देर होते ही
मैं रूठ जाता हूँ
माँ चुचकार कर
दुलारकर अपने हाथों से
रोटी खिलाती है
फिर भी मैं मुंह दूसरी तरफ़
किए हुए रोटी खा लेता हूँ ,
माँ प्यार से देर यूँ ही
खाना खिलाती है और मुझे मानती है
मैं माँ को देखकर खुश होता हूँ
और भाग जाता हूँ
घर में छिपने के लिए ....
माँ कुछ देर मुझे इधर उधर
खोजती है
और बक्से के पीछे से ढूंढ लेती है
मैं खुद को हारा महसूस करता हूँ
फिर माँ भी छिपती है
जिसे ढूंढकर खुश होता हूँ
..यूँ ही माँ के साथ बीता बचपन

3 comments: