हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

सोमवार, 20 सितंबर 2010

कुछ मुक्तक----पद्मकान्त शर्मा ' प्रभात'

हिन्दी

हिन्दी है राजनीति की शिकार हो गयी।
धारा संविधान की बेकार हो गयी ।
सोते रहे रहनुमा कुर्सी के मोह में--
है राष्ट्रभाषा संसद में लाचार हो गयी ।

हिन्दी का पोर-पोर बिंधा घावों से ।
हो गया आहत ह्रदय बिडम्बनाओं से ।
कलम के सिपाहियों खामोश मत रहो --
है राष्ट्र भाषा सिसक रही वेदनाओं से ।

अखबार

डर जाये जो आतंक से कलमकार नहीं है ।
मोड़े जो मुख सत्य से पत्रकार नहीं है ।
जनता के दुखदर्द को जो लिख नहीं पाया--
हो कुछ भी वो मगर वो अखबार नहीं है ।

3 comments:

वन्दना ने कहा…

तीनों ही मुक्तक सोया हुआ ज़मीर जगाने के लिये काफ़ी हैं………………बेहतरीन्।

सुमन'मीत' ने कहा…

बहुत खूब..........

डॉ० डंडा लखनवी ने कहा…

सटीक एवं प्रभावकारी अभिव्यक्ति !
-सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी