हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

मंगलवार, 1 जून 2010

सच हुआ सपना ....(लेख)..........मोनिका गुप्ता


सपने वो नही जो सोते समय देखे जाए ... सपने वो हैं जो हमे सोने ही ना दें ...कुछ ऐसा ही सपना लिए हरियाणा के पानीपत का कनिक गुप्ता अपनी +2 की पढाई के साथ साथ आईआईटी और एआईईईई की पढाई मे जुटा हुआ था. +2 मे तो 89.4% लिए पर असली इंतजार दूसरे रिजल्ट का था और वो दिन भी आ गया जब रिजल्ट आना था. कनिक की खुशी का कोई ठिकाना ही नही रहा जब उसने आईआईटी मे पूरे भारत मे 659 रैंक हासिल की और एआईईईई मे पूरे हरियाणा मे प्रथम आया .

अपनी सफलता का पूरा श्रेय वो भगवान को, अपने माता पिता को और उस संस्था को देते हैं जहाँ से उन्होने कोचिंग ली. कनिक ने बातचीत के दौरान मोनिका गुप्ता को बताया कि जिस दिन आईआईटी का रिजल्ट आना था वो सारी रात सो नही पाया क्योकि टेंशन हो रही थी ... और सुबह भी बहुत जल्दी उठ कर बैठ गया.पर रिजल्ट देखते ही खुशी से उछ्ल पडा ... कुछ ही देर मे तो फोन और मिलने वाले की कतार ही लग गई ... घर पर उसकी मम्मी, पापा और छोटी बहन साक्षी थे जोकि उसकी सफलता से फूले नही समा रहे थे.

कनिक ने पढाई के बारे मे बताया कि वो दिन मे 6-7 घंटे ही पढता था. वो दिल्ली नारायणा से कोचिंग़ ले रहा था तो आने जाने मे काफी समय लग जाता था पर वो दिल्ली कभी नही रुका. कोचिंग के बाद वो वापिस पानीपत लौट जाता था. 

कनिक ने यह बताया कि वो एकदम रिलेक्स होकर पढता है टेंशन मे पढाई नही करता. बलिक कितनी बार तो टीवी देखते देखते भी पढता. बस पढते समय मन एक दम कूल रखता. हाँ, एक बात जरुर है कि अपना फोकस साफ रख कर स्लैबस पूरी तरह से तैयार करना चाहिए . रट्टा नही लगाना चाहिए उससे काम खराब हो जाता है.कनिक की मम्मी ममता जी जोकि एक हाउस वाईफ है उन्होने बताया कि कनिक देर रात तक पढता था तो वो उसका ध्यान रखती थी . उनकी कोशिश यही रहती थी कि कनिक को शांत माहौल मिले. वो कनिक की सफलता से बहुत खुश हैं पर वो यह भी कहती है कि कनिक ने महेनत बहुत की थी आईआईटी मे उम्मीद थी कि बहुत अच्छी रैंक आएगी ....पर फिर भी वो और उनका परिवार बहुत खुश और उत्साहित है .

कनिक ने पढाई के साथ साथ कवि सम्मेलन ,नाट्क क्विज और भाषण आदि मे भी बहुत भाग लिया है. वो मानते हैं कि सिर्फ पढाई ही काफी नही होती बलिक साथ साथ और अन्य प्रतियोगिताओ मे भाग लेने से आत्म विश्वास बढता है .

डोसा, छोले और राजमाह चावल के शौकीन कनिक कम्प्यूटर साईंस करना चाहते हैं. और सच्ची महेनत मे यकीन रखते हैं.

कनिक बच्चो को यही संदेश देना चाहते हैं कि बस महेनत करते चलो. सफलता जरुर मिलेगी. 

जो सपना कनिक लेकर चला आज वो सच बन कर मुस्कुरा रहा है .... भविष्य मे भी ऐसी सफलता मिलती रहे .... हमारी ढेरों शुभ कामनाए ....

5 comments:

डॉ० डंडा लखनवी ने कहा…

कनिक को मेरी बधाई।
"विशवास आपकी मुठ्ठी में।
उल्लास आपकी मुठ्ठी मे॥
निश्चित ही एक दिवस होगा-
आकाश आपकी मुठ्ठी में॥"
सद्भावी- डॉ० डंडा लखनवी
//////////////////////////

हिन्दी साहित्य मंच ने कहा…

कनिक आपको बहुत बहुत बधाई ........सफलता के लिए जो कुछ करना जरूरी होता है..वह सब कुछ आपने किया ...आपके उज्जवल भविष्य की कामना करते है ...आप अपना और देश का नाम रोशन करें ...

neeshoo ने कहा…

aapke baare me jankar accha laga ....yun hi aage badhte rahhiye yahi kaamna karta hun .......badhi

जय हिन्दू जय भारत ने कहा…

bahut khub .......kanik aap hi log desh ko aage le jayege .....iss saphlta par aapko hardik badhai

मोनिका गुप्ता सिरसा हरियाणा ने कहा…

कनिक की तरफ से मै आप सभी का धन्यवाद करती हूँ ...