हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

शनिवार, 22 मई 2010

सीख................(गजल).................श्यामल सुमन

रो कर मैंने हँसना सीखा, गिरकर उठना सीख लिया।
आते-जाते हर मुश्किल से, डटकर लड़ना सीख लिया।। 

महल बनाने वाले बेघर, सभी खेतिहर भूखे हैं।
सपनों का संसार लिए फिर, जी कर मरना सीख लिया।। 

दहशतगर्दी का दामन क्यों, थाम लिया इन्सानों ने।
धन को ही परमेश्वर माना, अवसर चुनना सीख लिया।।

रिश्ते भी बाज़ार से बनते, मोल नहीं अपनापन का। 
हर उसूल अब है बेमानी, हँटकर सटना सीख लिया।। 

फुर्सत नहीं किसी को देखें, सुमन असल या कागज का।
जब से भेद समझ में आया, जमकर लिखना सीख लिया।।

10 comments:

दिलीप ने कहा…

waah bahut khoob....
रिश्ते भी बाज़ार से बनते, मोल नहीं अपनापन का।
हर उसूल अब है बेमानी, हँटकर सटना सीख लिया।।
sabse achcha laga

neeshoo ने कहा…

रो कर मैंने हँसना सीखा, गिरकर उठना सीख लिया।
आते-जाते हर मुश्किल से, डटकर लड़ना सीख लिया।।

bahut khub ..shandaar gazal

faij ने कहा…

gazal padhkar accha laga ..jitni bhi tariph ki jaye kam hogi ..

जय हिन्दू जय भारत ने कहा…

फुर्सत नहीं किसी को देखें, सुमन असल या कागज का।
जब से भेद समझ में आया, जमकर लिखना सीख लिया।।

bahut hi acchi gazal ...dhanyavaad

स्वप्निल कुमार 'आतिश' ने कहा…

aaje ke daur ko dikhaati ek achhi ghazal suman ji ..

डॉ टी एस दराल ने कहा…

रो कर मैंने हँसना सीखा, गिरकर उठना सीख लिया।
आते-जाते हर मुश्किल से, डटकर लड़ना सीख लिया।।

सही नजरिया ।
अच्छी ग़ज़ल लिखी है सुमन जी ।

उम्मेद गोठवाल ने कहा…

वर्तमान परिवेश के अन्तर्विरोधों को उद्घाटित करती सशक्त गजल........बधाई।

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

लाजवाब! बेहतरीन! उम्मीदों की बात करती, हालात की बात करती शानदार ग़ज़ल !

कविता रावत ने कहा…

फुर्सत नहीं किसी को देखें, सुमन असल या कागज का।
जब से भेद समझ में आया, जमकर लिखना सीख लिया।।
......mushkil haalaton se hi to betar sikhta hai aadmi..
umda prastuti ke liye dhanyavaad

श्यामल सुमन ने कहा…

आप सबके प्रति श्यामल सुमन का विनम्र आभार प्रेषित है। स्नेह बनाये रखें।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com