हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

सोमवार, 23 नवंबर 2009

कमली .......................(कहानी )....................नीशू तिवारी

बचपन से ही तंग गलियों में बीता बचपन हमेशा ही एक हसीन सपना बुनता था उसका । मां , बाबा और कमली यही दुनिया थी उसकी । किसी तरह से कमली को उसके बाबा ने पेट तन काट कर पढ़ाने की कोशिश की । आज कमली इण्टर ( १२ वीं ) में दाखिल हुई थी । कमली तो खुश थी ही साथ ही साथ उसके बाबा की खुशी का ठिकाना न रहा था ।


कमली पढ़ाई में अव्वल रही थी हमेशा से ........इस कारण मां और बाबा ने हमेशा कमली को पढ़ाने के लिए कोई कोर कसर न छोड़ी थी । पैसे की कमी होते हुए भी किसी तरह से गुजारा चलता , स्कूल में कमली को टीचर जी ने मुफ्त ही ट्यूशन देने की बात कही थी । कमली भी पूरे मन से पढ़ाई करती और सभी की उम्मीदों पर खरा उतरने की हमेशा कोशिश करती । जैसे तैसे समय बीतता रहा । कमली का व्यक्तित्व , रूप सांवलापन लिये हुए जरूर था पर उसका आकर्षण बहुत ही प्रभावशाली था.. जिससे सभी प्रभावित हुए बिना नहीं रह पाते । एक शाम कमली ट्यूशन के लिए टीचर जी के पास गयी थी पर आज जो हुआ वो गुरू शिष्य की परंपरा को सरेआम नंगा कर दिया । जो कुछ था उसके पास वह सब कुछ एक पल में लुट गया था । शर्म के मारे दुपट्टे से मुंह छिपाये सिसकती हुई अपने घर किसी तरह से जा सकी । कमली को डराया और धमकाया गया कि अगर वह किसी से कुछ भी कहती है तो जान से भी हाथ धोना पड़ेगा....... साथ ही साथ क्लास में फेल कर दिया जायेगा ।

ऐसी परिस्थिति में क्या कुछ करें कमली??? वह उसके समझ से परे था । किससे कहे अपनी आप बीती , अपना दर्द । बारवहीं पास करते करते कमली ने अपना मुंह न खोला । कमली अपनी क्लास में पहला स्थान प्राप्त करते हुए परीक्षा पास की । ऐसे में सभी खुश थे पर कमली उदास थी । कमली ने अपने सब्र का बांध तोड़ते हुए अपनी मां को सारी घटना के बारे में बताया । मामला पुलिस के पास पहुंचा । टीचर को कानूनन उम्रकैद की सजा हुई । सरकार ने कमली को नये जीवन को शुरू करने के लिए सरकारी नौकरी का आश्वासन भी दिया । लेकिन ऐसे में एक नयी शुरूआत करने की कोशिश की । जब सफलता हाथ न लगी तो कमली ने दिहाड़ी मजदूरी कर अपने परिवार को जिंदा रख रही है । । सरकार का कहा हुआ कब पालित होगा पता नहीं ?


3 comments:

Nirmla Kapila ने कहा…

आज ये बुराई हर स्कूल मे फैल रही है ऐसे मे लोगों को सामने आना होगा तभी कुछ हो सकता है। कहानी के रूप मे अच्छी समस्या पर लिखा है बधाई

Devendra ने कहा…

यह कहानी है या समाचार

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

हां गुरु-शिष्य रिश्ते पर कालिख लगती ही रहती है अब.