हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

शनिवार, 1 अगस्त 2009

मज़हब .......(जीत स्वप्न )

जब भी ,
दरख्तों पर बैठे पंछियों की तरह
मैंने चहचहाना चाहा ;

जब भी,
फूलों पर बैठे भंवरों की तरह
मैंने गुनगुना चाहा ;

जब भी,
बागों में खिलते फूलों की तरह
मैंने मुस्कुराना चाहा ;

जब भी ,
इस शहर में रहने के लिए
मैंने इक आशियाना चाहा ;

जब भी,
एक पागल प्रेमी की तरह
मैंने उसे पाना चाहा ;

हर बार, रहा खामोश
हर बार,हुआ मजबूर
हर बार, लौटा नाकाम
हर बार, पुछा गया
मुझसे मेरा मज़हब !!

2 comments:

sarwat m ने कहा…

मर्मस्पर्शी कविता. वाकई साम्प्रदायिकता हमारी रगों में खून बनकर प्रवाहित होने लगी है. प्रेम तक में हिन्दू-मुस्लिम छूत-अछूत देखे जाने लगे हैं. यह तेवर बने रहें. बधाई.

neeshoo ने कहा…

bahut khub sundar rachna