हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

बुधवार, 8 अप्रैल 2009

रिश्ते.......................निर्मला कपिला जी

ये रिश्ते अजीब रिश्ते,
कभी आग
तो कभी ठंड़ी बर्फ
नहीं रहते,
एक से सदा
बदलते हैं ऐसे
जैसे मौसम के पहर
उगते हैं
सुहाने लगते हैंबैसाख के सूरज की,
लौ फूटने से पहले
पहर जैसे,
बढ़ते हैं
भागते हैं,
जेठ आषाढ़ की
चिलचिलाती धूप की
सांसों जैसे
पड़ जाती है दरारें
सावन भादों के
कड़कते मेघों जैसे
बरसते
और बह जाते
बरसाती नदी नालों जैसे
रह जाती हैं,
बस यादें
पौष माघ की
सर्द रातों में
दुबकी सी,
मन के किसी कोने में
और निरन्तर
चलता रहता
चलता रहता
रिश्तों का
यह सफर।।

यह रचना " सुबह से पहले " कविता संग्रह से प्रकाशित की गयी है ।

14 comments:

हिन्दी साहित्य मंच ने कहा…

रिश्ते पर आपकी यह रचना अतिसुन्दर लगी । शब्द बहुत ही अंचल लगे । प्राकृतिक परिवेश में यह दास्तान बहुत व्यवस्थित लगी । धन्यवाद

neeshoo ने कहा…

रिश्ते पर खूबसूरत कविता । बेहतरीन भाव

jamos jhalla ने कहा…

BAHUT ACHAA RISTON SE AISE HI PEHCHAAN KARAANDE RAHO LIFE BAN JAANI HAI .KEEPIT UP JHALLEVICHAR.BLOGSPOT.COM

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र ने कहा…

खूबसूरत कविता धन्यवाद.

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह ने कहा…

very touchy poem ,well defined rishtey ,no doubt.I wish to congratulate you Nirmala ji.
You are doing great service to Hindi.
My heartly regards
Dr.Bhoopendra

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह ने कहा…

very touchy poem ,well defined rishtey ,no doubt.I wish to congratulate you Nirmala ji.
You are doing great service to Hindi.
My heartly regards
Dr.Bhoopendra

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह ने कहा…

very touchy poem ,well defined rishtey ,no doubt.I wish to congratulate you Nirmala ji.
You are doing great service to Hindi.
My heartly regards
Dr.Bhoopendra

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह ने कहा…

very touchy poem ,well defined rishtey ,no doubt.I wish to congratulate you Nirmala ji.
You are doing great service to Hindi.
My heartly regards
Dr.Bhoopendra

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह ने कहा…

very touchy poem ,well defined rishtey ,no doubt.I wish to congratulate you Nirmala ji.
You are doing great service to Hindi.
My heartly regards
Dr.Bhoopendra

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह ने कहा…

very touchy poem ,well defined rishtey ,no doubt.I wish to congratulate you Nirmala ji.
You are doing great service to Hindi.
My heartly regards
Dr.Bhoopendra

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह ने कहा…

very touchy poem ,well defined rishtey ,no doubt.I wish to congratulate you Nirmala ji.
You are doing great service to Hindi.
My heartly regards
Dr.Bhoopendra

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह ने कहा…

very touchy poem ,well defined rishtey ,no doubt.I wish to congratulate you Nirmala ji.
You are doing great service to Hindi.
My heartly regards
Dr.Bhoopendra

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह ने कहा…

very touchy poem ,well defined rishtey ,no doubt.I wish to congratulate you Nirmala ji.
You are doing great service to Hindi.
My heartly regards
Dr.Bhoopendra

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह ने कहा…

very touchy poem ,well defined rishtey ,no doubt.I wish to congratulate you Nirmala ji.
You are doing great service to Hindi.
My heartly regards
Dr.Bhoopendra