हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

सोमवार, 16 मार्च 2009

ऊँचे दृष्टिकोण (डॉ.रुपचन्द्र शास्त्री मयंक)

भूल चुके हैं आज सब, ऊंचे दृष्टिकोण,

दृष्टि तो अब खो गयी, शेष रह गया कोण।


शेष रह गया कोण, स्वार्थ में सब हैं अन्धे,


सब रखते यह चाह, मात्र ऊँचे हो धन्घे।


कह मयंक उपवन में, सिर्फ बबूल उगे हैं,


सभी पुरातन आदर्शो को, भूल चुके हैं।

4 comments:

neeshoo ने कहा…

दृष्टि तो अब खो गयी,


शेष रह गया कोण।


शेष रह गया कोण,


स्वार्थ में सब हैं अन्धे,


बहुत सुन्दर रचना सर जी बधाई ।

shyam.skha ने कहा…

thanks for visiting my blog
फ़ूल लिखना या पान लिखना
गेहूं लिखना या धान लिखना
कागद पे चाहे जो भी लिखना
दिल पे मेरे हिन्दुस्तान लिखना
my blogs- yourgoodself is welcome at
http://gazalkbahane.blogspot.com/
http://katha-kavita.blogspot.com/

बेनामी ने कहा…

[url=http://directlenderloansonlinedirectly.com/#oroiw]payday loans online[/url] - payday loans online , http://directlenderloansonlinedirectly.com/#tbdkg payday loans online

बेनामी ने कहा…

[url=http://buyonlinelasixone.com/#9764]buy lasix[/url] - order lasix , http://buyonlinelasixone.com/#20619 lasix online without prescription