हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

मंगलवार, 31 मार्च 2009

मैं तो यहीं हूँ.....तुम कहाँ हो....!!.......[एक कविता] भूतनाथ जी की कलम से


इक दर्द है दिल में किससे कहूँ.....
कब लक यूँ ही मैं मरता रहूँ !!
सोच रहा हूँ कि अब मैं क्या करूँ
कुछ सोचता हुआ बस बैठा रहूँ !!
कुछ बातें हैं जो चुभती रहती हैं
रंगों के इस मौसम में क्या कहूँ !!
हवा में इक खामोशी-सी कैसी है
इस शोर में मैं किसे क्या कहूँ !!
मुझसे लिपटी हुई है सारी खुदाई
तू चाहे "गाफिल" तो कुछ कहूँ !!
०००००००००००००००००००००००००
००००००००००००००००००००००००
दूंढ़ रहा हूँ अपनी राधा,कहाँ हैं तू...
मुझको बुला ले ना वहाँ,जहाँ है तू !!
मैं किसकी तन्हाई में पागल हुआ हूँ
देखता हूँ जिधर भी मैं,वहाँ है तू !!
हाय रब्बा मुझको तू नज़र ना आए
जर्रे-जर्रे में तो है,पर कहाँ है तू !!
मैं जिसकी धून में खोया रहता हूँ
मुझमें गोया तू ही है,निहां है तू !!
"गाफिल"काहे गुमसुम-सा रहता है
मैं तुझमें ही हूँ,मुझमें ही छुपा है तू !!

4 comments:

हिन्दी साहित्य मंच ने कहा…

प्रेम से निकली यह रचना वास्तविक सुन्दरता लिए हुए है । पहले की तरह आपकी बेहतरीन प्रस्तुति ।

neeshoo ने कहा…

बहुत खूब , भूतनाथ जी । बहुत ही सुन्दर रचना । शुभकामनाएं

Nirmla Kapila ने कहा…

bhoot nathji aap to sara jahan dekh sakte ho dhoond kyon nahi lete bahut sunder kavita ke liye badhai

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

भूतनाथ जी!
आपकी दोनों रचनाएँ सुन्दर हैं।
आपको बधायी और हिन्दी साहित्य मंच
को इनको प्रसारित करने के लिए धन्यवाद।