हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

रविवार, 2 फ़रवरी 2014

मैं नहीं चाहता प्रिय-- राघवेन्द्र त्रिपाठी "राघव"

 इस अनजाने अपनेपन की प्रिय,मैं नहीं चाहता कोई वर्णन कोई परिभाषा हो ||
                       मेरे जीवन की सुप्त चेतना ,
                        तेरे नयनो में होती विम्बित |
                        मेरा पथ आलोकित करती ,
                        तेरे संग की मीठी स्मृति ||
इससे ज्यादा इस सुप्त ह्रदय में मैं नहीं चाहता बाकी कोई भी अभिलाषा हो ||
                         बस मेरे मानस अम्बर पर,
                         काले मेघों सी छा जाना ||
                          जीवन के मेरे मरू-थल में ,
                         इक बार प्रिये तुम आ जाना ||
ये दग्ध ह्रदय अपना , मैं नहीं चाहता  , प्रिय ,चिर विरही चातक प्यासा हो ||
                          मेरे मानस आले में तुम हो,
                           प्राणों में प्रिय तुम्ही शेष ||
                          है अंतिम बार यही इच्छा ,
                         देखू जी भर कर तुम्हे निमेष||
हो ध्येय पूर्ण यह जीवन का,मई नहीं चाहता बाकि कोई भी इच्छा,आशा हो ||
                         मौन अधर के प्रश्न सुन सको,
                         मूक नयन से प्रत्युत्तर दो प्रिय||
                        इस पथरीले पथ पर जीवन के ,
                       आकर मुझको सम्बल दो प्रिय ||
 

2 comments:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सच मुक्त व्यक्त जीवन मंचन।

PBM ने कहा…

Nice