हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

शनिवार, 1 जनवरी 2011

नव वर्ष का आमंत्रण............(सत्यम शिवम)

नूतन वर्ष की सौम्य पटल पर,
आओ सुहाना गीत हम गाये।

नव वर्ष का आमंत्रण फिर कर,
नया ताजगी, नव स्फुर्ति पाये।

संकल्प ले हम आज धरा पर,
सुंदर सा नया संसार बसाये।

भूला दे कटुता, वैर तज कर,
बस प्यार की पावन गंगा बहाये।

सुमनों की कोमलता चुन कर,
नव स्वप्नों से जीवन बुन कर,
सरिता की कल कल का शोर,
फिर डुबा सूरज हुआ है भोर।

फिर स्वर में सुर ताल सजा कर,
जीवन का नवगीत हम गाये।

नभ में तारे जगमग जगमग,
हर्षित है धरा, प्रकाशित है नभ।

चाँद सजा है आसमान पर,
जीवन ज्योत भी हम आज जलाये।


नूतन वर्ष की सौम्य पटल पर,
आओ सुहाना गीत हम गाये।

7 comments:

KSS Kanhaiya (के एस एस कन्हैया) ने कहा…

नव वर्ष सबों को समस्त अभीष्ट प्राप्ति की सामर्थ्य तथा शुभ-मात्र की एषणा के विवेक से परिपूर्ण रखे.
हार्दिक शुभकामनाएँ.
के एस एस कन्हैया बोकारो
http://ksskanhaiya.blogspot.com/

वन्दना ने कहा…

नव वर्ष की आपको और आपके पूरे परिवार को हार्दिक शुभकामनायें

: केवल राम : ने कहा…

फिर स्वर में सुर ताल सजा कर,
जीवन का नवगीत हम गाये।
बहुत सुंदर भाव ..जीवन में सुर और ताल का संगम हो तो जीवन की के कहना ..बहुत खूब
नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनायें ......स्वीकार करें ..

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सुन्दर भावों से सजी अच्छी रचना ...

नव वर्ष की शुभकामनाएँ

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

आशाओं का गीत सुहाना।

Mithilesh dubey ने कहा…

नव वर्ष की आपको और आपके पूरे परिवार को हार्दिक

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

सुन्दर गीत.
नये वर्ष की असीम शुभकामनाएं.