हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

शनिवार, 17 जुलाई 2010

पावस गीत ---क्या हो गया..........डा श्याम गुप्त

इस प्रीति की बरसात में ,
भीगा हुआ तन मन मेरा |
कैसे कहें ,क्या होगया,
क्या ना हुआ , कैसे कहें ||

चिटखीं हैं कलियाँ कुञ्ज में ,
फूलों से महका आशियाँ |
मन का पखेरू उड़ चला,
नव गगन पंख पसार कर ||

इस प्रीति स्वर के सुखद से,
स्पर्श मन के गहन तल में |
छेड़ वंसी के स्वरों को ,
सुर लय बने उर में बहे ||

बस गए हैं हृदय-तल में ,
बन, छंद बृहद साम के |
रच-बस गए हैं प्राण में,  
 बन करके अनहद नाद से ||

कुछ न अब कह पांयगे,
सब भाव मन के खोगये,
शब्द,स्वर, रस ,छंद सारे-
सब तुम्हारे ही होगये ||

अब हम कहैं या तुम कहो,
कुछ कहैं या कुछ ना कहैं |
प्रश्न उत्तर भाव सारे,
प्रीति रस में ही खोगये ||

2 comments:

डॉ० डंडा लखनवी ने कहा…

अति सुन्दर ......
सद्भावी -डंडा लखनवी

सुमन'मीत' ने कहा…

बहुत सुन्दर