हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

शनिवार, 27 फ़रवरी 2010

पिचकारी के तीर------[दोहे]------ डाo श्याम गुप्त

लकुटि लिये सखियाँ खडीं, बदला आज चुकायं .|
सुधि बुधि भूलें श्याम जब सम्मुख आ मुसुकायं | १

आज न मुरलीधर बचें, राधा मन मुसुकायं|
दौड़ी सुध बुध भूलि कर , मुरली दई बजाय ||२

भ्रकुटि तानि बरजे सुमुखि, मन ही मन ललचाय |
पिचकारी ते श्याम की,तन मन सब रंगि जाय ||३

रंग भरी पिचकारि ते, वे छोड़ें रंग धार |
वे घूंघट की ओट ते, करें नैन के वार || ४

भरि पिचकारी सखी पर, वे रंग बान चलायं |
लौटें नैनन बान भय, स्वयं सखा रंगि जायं ||५

गोरे गोरे अंग पर,चटख चढ़े हैं रंग |
रंगीले आँचल उड़ें, जैसे नवल पतंग || ६

चेहरे सारे पुत गए, चढ़े सयाने रंग |
समझ नहीं आवे कछू ,को सजनी को कंत ||७

लाल, हरे, पीले रंगे, रंगे अंग प्रत्यंग |
कज्ज़ल गिरि सी कामिनी,चढो न कोई रंग ||८

भये लजीले 'श्याम दोऊ,गोरे गाल, गुलाल |
गाल गुलावी होगये, भयो गुलाल रंग लाल || ९

भक्ति ज्ञान और प्रेम की, मन में उठे तरंग |
कर्म भरी पिचकारि ते , रस भीजे अंग अंग || १०

होली ऐसी खेलिए, जरैं त्रिविध संताप |
परमानंद प्रतीति हो, ह्रदय बसें प्रभु आप || ११

यह वर मुझको दीजिये, चतुर राधिका सोय |
होरी खेलत श्याम संग , दर्शन श्याम को होय ||१२.

6 comments:

Mithilesh dubey ने कहा…

बहुत ही सुन्दर रचना । होली की बधाई

neeshoo ने कहा…

रंग भरी पिचकारि ते, वे छोड़ें रंग धार |
वे घूंघट की ओट ते, करें नैन के वार ||

बहुत खूब श्याम जी, आपकी ये लाईंन बहुत ही अच्छी लगी , होली की आपको बहुत-बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं ।

वन्दना ने कहा…

भक्ति ज्ञान और प्रेम की, मन में उठे तरंग |
कर्म भरी पिचकारि ते , रस भीजे अंग अंग || १०

होली ऐसी खेलिए, जरैं त्रिविध संताप |
परमानंद प्रतीति हो, ह्रदय बसें प्रभु आप || ११

होली हो तो ऐसी जा मे सब रंग जाये
मै भी मै ना रहू श्याम रंग होई जाऊँ

होली की हार्दिक बधायी। बहुत ही सुन्दर रचना।

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद, सभी को गुलाल भेंट---

नन्दलाल और गुलाल, दोऊ नैन भरिगे ।
निकसे निकासे ते न,नैन लाल परिगे ।
अंसुअन की राह ढरि,।गुलाल तौ निकसि गयो,
निकसे न नन्दलाल, हिये में उतरिगे ॥

जय हिन्दू जय भारत ने कहा…

बहुत ही खूबसूरत दोहे लगे गुप्ता जी होली के पावन अवसर पर, आपको होली की बहुत-बहुत बधाई ।

Priya ने कहा…

bahut khoob aisi shudh rachna padh man khush ho gaya.....Holi Mubarak