हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

बुधवार, 30 सितंबर 2009

कविता.........................नीशू

प्रिये ,

आज तुम फिर क्यों ?
इतनी देर से आयी हो ,

तुम्हारे इंतजार में मैंने
कितने ही सपने सजाये
पर तुम्हारे बगैर ये कितने
अधूरे से हैं ।

मैंने तो कितनी ही बार
तुमसे शिकायत की
पर
तुमने हमेशा ही अपनी
मुस्कुराहट से ,
जीत लिया मुझे,
तुमसे इस तरह तुम्हारी शिकायत करना
अच्छा लगता है मुझे ,

प्रिये,

तुम्हारा इंतजार करते- करते

मैंनें बंद कर ली थी आंखें,
बंद आंखों में तुम्हारी
यादे तैरने लगी थी ,

एक उम्मीद थी कि

शायद इन यादों के साथ

नींद के आगोश में
समा जाऊं मैं ,

करवटें बदल- बदल कर
कोशिश की थी ,
रात भर सोने की
पर
सफल न हो सका था ।

कमरे के दरवाजे से
मंदिर के जलते दिये
की रोशनी ,
चांद की किरणों को
मद्धम कर रही थी ,
मैं तो चुपचाप ही ये
खेल देख रहा था ।

ऐसे में हवा के एक झोंके ने,
बुझा दिया था इस रोशनी को ,
जिसे देख मैं इंतजार कर रहा था तुम्हारा,
उस झोंके ने कोशिश की थी
मेरे विश्वास को तोड़ने की ,
पर मुझे पता है कि
तुम आओगी जरूर प्रिये ,
पर
देर से ही
और मैं
तुमसे करूंगा ढ़ेर सारी
शिकायतें
तुम चुप रह कर सुनती रहोगी
फिर
मुस्कराकर मेरा दिल जलाओगी

प्रिये ,


तुम्हारी ये अदा
मुझे सताती है ,
मेरे दिल को भाती है
इसलिए तो
तुम्हारा इंतजार करना
अच्छा लगता है ।

4 comments:

MANOJ KUMAR ने कहा…

इंतजार अच्छा लगता है और मंदिर के जलते दिये/की रोशनी/चांद की किरणों को/मद्धम कर रही थी, शब्दों का यह खेल अच्छा लगा।

Babli ने कहा…

इंतज़ार का फल हमेशा मीठा होता है! आपने बहुत ही सुंदर शब्दों का प्रयोग करके कविता में चार चाँद लगा दिए हैं! बेहद ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना !

शागिर्द - ऐ - रेख्ता ने कहा…

मंदिर के जलते दिये
की रोशनी ,
चांद की किरणों को
मद्धम कर रही थी ,
बहुत खूब |
जय हो... जय हो...

Mithilesh dubey ने कहा…

दिल को छु लेने वाली अभिव्यक्ति। बहुत खुब