हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

शनिवार, 8 अगस्त 2009

दूर दृष्टि -डॉ.योगेन्द्र मणि

कडी मेहनत दूर दृष्टि


कडी मेहनत कीजिऐ


पेट की सूखी आँतों को


खूँटी पर टाँग दीजिऐ


......

क्योंकि



..

आपके पसीने से


विदेशी ऋण चुकाऐगें


प्रतिफल


में आपको

आश्वासन मिल जाऐगें


..

आप


-

आश्वासन पहिनिऐ


आश्वासन खाइये


आश्वासन आने वाली


पीढ़ी को दे जाइऐ


..

दूरदृष्टि से काम लीजिऐ


भावी पीढ़ी को


कडी मेहनत की


सीख दीजिऐ ।


और


-

अच्छी तरह समझा दीजिऐ


सारे जहाँ से अच्छा


हिन्दुस्ता हमारा


...

क्योंकि हम गाँधीवादि है


सरकारी विचारधारा


समाजवादी है


संविधान धर्मनिरपेक्ष


तथाकथित नेता


अवसरवादी हैं ।


शायद


-

इसीलिऐ कहलाता है


मेरा भारत महान


....!

टूटी चप्पल धिसता


पढ़ा


-लिखा नौजवान

जनता आतंकवाद


,

कुपोषण


,भुखमरी

का शिकार


फिर भी


तथाकथित नेता


बने पहलवान

.......!!








2 comments:

अर्चना तिवारी ने कहा…

सत्यता का बयान करती सुंदर भावपूर्ण रचना

neeshoo ने कहा…

bahut hi sundar