हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

सोमवार, 23 मार्च 2009

मैं भी कुछ कहूँ.........!![एक कविता] भूतनाथ की

बस तुझे बसा रखा है आंख भर....
अब कुछ नहीं बसता आँख पर !!
मरने के बाद खुद को देखा किया
मैं बचा हुआ था बस राख भर....!!
झुक जाने में आदम को शर्म कैसी
कौन बैठा रहता है तिरी नाक पर !!
दिन को तो फुरसत नहीं मिलती
शब रोया करती है रोज़ रात भर !!
गौर से देखो तो अलग नहीं तुझसे
खुदा इत्ता-सा है,बस तेरी आँख भर !!
बसा तो लेता गाफिल तुझे भी भीतर
दामन ही छोटा-सा था,बस चाक भर !

6 comments:

Harkirat Haqeer ने कहा…

बस तुझे बसा रखा है आंख भर....
अब कुछ नहीं बसता आँख पर !!
मरने के बाद खुद को देखा किया
मैं बचा हुआ था बस राख भर....!!

waah ji waah...bhot khoob....!!

बेनामी ने कहा…

hi, nice to go through ur blog...it is really well informative..by the way which typing tool are you using for typing in Hindi...?

recently i was searching for the user friendly Indian Language typing tool and found ... "quillpad". do u use the same..?

Heard tht it is much more superior than the Google's indic transliteration...!?

expressing our views in our own mother tongue is a great feeling...and it is our duty to save, protect, popularize and communicate in our own mother tongue...

try this, www.quillpad.in

Jai..Ho...

neeshoo ने कहा…

भूतनाथ जी , बहुत ही सुन्दर रचना लगी आपकी । बधाई

हिन्दी साहित्य मंच ने कहा…

बेशक आपकी रचना बहुत ही सुन्दर है , भावात्मक अभिव्यक्ति बहुत सुन्दर है । शब्द चयन अच्छा लगा ।

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

भई वाह्! भूतनाथ जी......बहुत बढिया.....

hempandey ने कहा…

गौर से देखो तो अलग नहीं तुझसे
खुदा इत्ता-सा है,बस तेरी आँख भर !!
-सुंदर.